Site Search

Search by Keyword

Browse Keyword Tags By Alphabet

A   B   C   D   E   F   G   H   I   J   K   L   M   N   O   P   Q   R   S   T   U   V   W   X   Y   Z  

You are searching for "भारतीय प्रशासनिक सेवा"   Total Result found: 70

NCERT पुस्तकों की सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी में महत्वपूर्ण भूमिका और पढ़ने का उपयोग (NCERT BOOKS are a Must for Civil Services Exam Preparation; But How to Manage such Work Load?)

On Wednesday 27th May 2020  

जी हाँ, NCERT की पुस्तकें सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी में आपकी पाठ्य-सामग्री का अभिन्न अंग हैं.

मैं जानता हूँ कि यह कहना आसान है कि सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी के लिए (विशेष रूप से सामान्य अध्ययन की तैयारी के लिए) यह पढ़ें...इसे पढ़े... और जब किसी नये उम्मीदवार के सामने पाठ्यक्रम की तैयारी के लिये संसाधन की खोज शुरू होती है, NCERT पुस्तकों की एक लम्बी पुस्तक-सूची सामने आती है.

प्रायः इन पुस्तकों की लम्बी सूची NCERT की छटी से बाहरवीं कक्षा तक की विभिन्न विषयों की पुस्तकों को पढने की सलाह से शुरू होती है जिसका सीधा मतलब है कि आपको सीमित समय में लगभग 40 पुस्तकें पढ़नी हैं अपने ज्ञान की आधारशिला रखने के लिए. 

 


Last Update Wednesday 27th May 2020

सिविल सेवाओं में कैरियर बनाने के लिए प्रयत्न करूँ या फिर अपने स्वप्न से कुछ समझौता ? (Should you go ahead with making Career in Civil Services or settle for something else?)

On Tuesday 26th May 2020  

सामान्यतः, युवा पीढ़ी जहाँ 'कैरियर विकल्प' संबंधी निर्णय का समय आता है, आज भी एक पारंपरिक सोच के संपर्क में है और कैरियर के बारे में अंतिम निर्णय लेना कुछ जटिल.

बहुत सारे कारक आपके कैरियर संबंधित निर्णय को प्रभावित करते हैं. ऐसे मसलों में बहुतायत वरीयता ऐसे कैरियर को मिलती है जहाँ शुरूआत में आसानी से नौकरी मिल जाये और ऐसे समय में केवल सबसे लोकप्रिय विकल्प कैरियर मन को चारों ओर से घेर लेते हैं.

सिविल सेवाओं में कैरियर बनाने का निर्णय बड़ा है; शुरूआत में ही सोच समझ कर निर्णय लें और आगे बढ़ें.


Last Update Tuesday 26th May 2020

सिविल सेवा परीक्षा तैयारी की शुरुआत में ही आवश्यक है आत्म-मूल्यांकन (self assessment must in the beginning Civil Services Exam preparation)

On Tuesday 26th May 2020  

सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी के लिए पहले दिन से ही आपको एक सटीक रणनीति की आवश्यकता है.

तैयारी को परीक्षा के स्तर के समकक्ष पहुंचने के लिए एक मज़बूत नींव डालने के लिए अपना समय लें. शुरूआत में ही आत्म-मूल्यांकन योजना के अनुसार तैयारी में मदद देगा और उचित तैयारी के साथ आपको अपने सपने साकार करने में बहुमूल्य योगदान देगा.

आत्म-मूल्यांकन से आप यह जानने में तो सक्षम हो ही जायेंगे कि यह आपकी पहुंच के भीतर है या नहीं और उसके बाद ही पहला प्रयास लेने के बारे में सोचना चाहिए.


Last Update Tuesday 26th May 2020

अपने पहले प्रयास से ले कर इस पाँचवें प्रयास तक हर प्रयास में यही सोचता था कि यह मेरा अंतिम प्रयास होगा; हेमन्त सती (सिविल सेवा परीक्षा 2016 में हिन्दी माध्यम से चयनित) (From my first attempt to this fifth one, I thought that this would be my last attempt; Hemant Sati (AIR 88; CSE 2016 Selected with Hindi Medium))

On Thursday 7th May 2020  

हेमन्त सती का शैक्षणिक सफर ऐसा रहा कि बी.एस.सी (पी.सी.एम.), फिर एम.ए. (इतिहास) और इसके बाद बी.एड.; फलस्वरूप अनेक विधाओं का अध्ययन और इसका सीधा फायदा उन्हे अपनी सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी में मिला.

हालांकि हेमन्त को अपना लक्ष्य प्राप्त करने में 5 प्रयास करने पड़े, पर अंत तक अपने प्रयासों में मन से जुटे रहे और सदैव अपना सर्वश्रेष्ठ दिया और अंततः यह उच्च सफलता प्राप्त की.

अपने प्रयासों में हेमन्त ने वैकल्पिक विषय के रूप में इतिहास विषय में विश्वास दिखाया.


Last Update Monday 25th May 2020

IAS, यह तो मेरे पिता जी का स्वप्न था जो हमेशा मेरी आँखों में जाग्रत रहा और आखिर मुझे मिल ही गया; गौरव सिंह सोगरवाल (सिविल सेवा परीक्षा 2016 में 46वें स्थान पर चयनित) (Post of IAS was always woke up in my eyes as it was my father's dream and finally I achieved it; Gaurav Sogarwal (AIR 46; CSE 2016))

On Thursday 7th May 2020  

गौरव सोगरवाल ने भारतीय विध्यापीठ,पुणे विश्वविधयालय कॉलेज आफ इंजीनियरींग से बी टेक (इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग) करने के बाद सिविल सेवा परीक्षा की ओर रुख किया और अपने चौथे प्रयास में शानदार प्रदर्शन के साथ 46वे स्थान पर चयन पाया.

पिछले प्रयास में भी गौरव को सफलता प्राप्त हुई थी और उनका चयन भारतीय पुलिस सेवा में हुआ.

गौरव ने वैकल्पिक विषय के रूप में संस्कृत भाषा का साहित्य चुना.


Last Update Friday 22nd May 2020

सकारात्मक दृष्टिकोण के साथ मेहनत और तैयारी में निरन्तरता से उच्च सफलता में मदद मिली; गंगा सिंह (33वाँ रैंक; सिविल सेवा परीक्षा 2016) (Continuity in Preparation and Hard Work with a Positive Attitude helped me accomplish my Goal; Ganga Singh (AIR 33; CSE 2016))

On Thursday 23rd April 2020  

बाडमेर, राजस्थान के गंगा सिंह को सिविल सेवा परीक्षा 2016 में एक शानदार प्रदर्शन के साथ उच्च सफलता मिली है. गंगा सिंह ने मैरिट लिस्ट में 33वाँ स्थान व हिन्दी माध्यम से दूसरा स्थान प्राप्त किया है.

शुरू से ही गंगा सिंह का शैक्षिक प्रदर्शन अच्छा रहा और स्नातक के बाद परीक्षा में शामिल हो अपने दूसरे प्रयास में उन्हें यह उपलब्धि मिली. 

वैकल्पिक विषय के रूप में गंगा सिंह ने हिन्दी भाषा का साहित्य चुना.


Last Update Friday 22nd May 2020

'Backbenchers' ने मेरी सफलता में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई; अजीत (26वाँ रैंक; सिविल सेवा परीक्षा 2012) (‘Backbenchers’ played a vital role in my success; says Ajit (AIR 26; CSE 2012))

On Tuesday 21st April 2020  

मध्य प्रदेश कैडर के एक आई.पी.एस. अधिकारी अजीत ने सिविल सेवा परीक्षा 2012 में 26 वां रैंक प्राप्त किया है. 

अपने कार्य सम्बन्धी प्रतिबद्धता के कारण उन्हें इस प्रयास में तैयार करने के लिए समय नहीं मिल पाया, इसलिए उन्होंने अपने पुराने नोट्स और दोस्तों के एक समूह 'Backbenchers' द्वारा तैयार नए नोट्स पर ही भरोसा किया और अपनी सफलता का मार्ग प्रशस्त किया.


Last Update Friday 22nd May 2020

यदि आपकी तैयारी की रणनीति सही है तो भाषा माध्यम से कोई फर्क नहीं पड़ता; प्रियंका निरंजन (रैंक 20, सिविल सेवा परीक्षा 2012) हिन्दी माध्यम से सफल (If your strategy is correct, medium of writing examination does not matter; says Priyanka Niranjan (AIR 20, CSE 2012) Success with Hindi)

On Friday 10th April 2020  

सिविल सेवा परीक्षा 2012 का परिणाम में शीर्ष 100 रैंक में बहुत से उम्मीदवार ऐसे दिखे जिनका परीक्षा लिखने के लिए माध्यम हिंदी रहा था.

पिछले वर्ष की उस स्थिति को देख जहाँ हिन्दी माध्यम का परिणाम अच्छा नहीं था, यह परिणाम निसंदेह आशाजनक रहा और हिंदी माध्यम के उम्मीदवारों के चेहरों पर एक बार फिर से मुस्कान वापस लाया.

प्रियंका निरंजन को योग्यता सूची में 20 वीं रैंक मिला जो फिर से हिंदी माध्यम के उम्मीदवारों में जोश भरने के लिए पर्याप्त रहा.


Last Update Saturday 23rd May 2020

यदि आप असफलता का सामना करते हैं, तो अपनी योजना को एक ऐसा मोड़ दें जो एक सुखद आश्चर्य लाने में सक्षम हो - कर्नाती वरुणरेड्डी (AIR 7; CSE 2018) (If you Face Failure, let your Plan take a Detour to bring a Pleasant Surprise; says Karnati Varunreddy (AIR 7; CSE 2018))

On Thursday 8th August 2019  

कर्नाती वरुणरेड्डी के लिए, यह स्वप्निल कैरियर को पाने की दिशा में एक क्रमिक कार्यवाही रही जिसमें वांच्छित गंतव्य - भारतीय प्रशासनिक सेवा तक पहुंचने के लिए यह पाँचवाँ प्रयास था.

प्रारंभिक दो प्रयासों में वैकल्पिक विषय के रूप में भूगोल चुनना और असफलता के बाद तीसरे प्रयास में वरुण को अपनी योजनाओं के मूल्यांकन की एक बार फिर से जरूरत पड़ी. और तब, उन्होंने अपने स्वयं के विषय गणित में विश्वास दिखाया, जिससे उन्हें सफलता प्राप्त करने में (AIR 166; CSE 2016) मदद मिली, जिसके साथ उन्हें IRS (IT) पद मिला.

हालाँकि वे चौथे प्रयास में भी सफल रहे (AIR 225; CSE 2017); लेकिन, इस पाँचवें प्रयास ने आखिरकार उन्हें CSE 2018 में सातवीं रैंक दी.


Last Update Saturday 23rd May 2020

UPSC में शामिल होने की योजना Plan ‘A’ था और मैं Plan ‘B’ के साथ भी तैयार था; सौभाग्य से मेरी मेरी पहली योजना ही काम कर गई - शुभम गुप्ता (AIR 6; CSE 2018) (Appearing in UPSC was Plan ‘A’ and I was ready with Plan ‘B’ as well; Luckily my Plan ‘A’ Worked; says Shubham Gupta (AIR 6; CSE 2018))

On Thursday 8th August 2019  

दिल्ली कॉलेज ऑफ आर्ट्स एंड कॉमर्स (दिल्ली विश्वविद्यालय) से एक अर्थशास्त्र स्नातक शुभम गुप्ता ने वर्ष 2015 में सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी शुरू की और अपने दूसरे प्रयास में उन्हें CSE 2016 क्रैक करने में सफलता मिली और रैंक 366वाँ रैंक प्राप्त हुआ जसके द्वारा उन्हें भारतीय लेखा परीक्षा और लेखा सेवा (Indian Audit and Accounts Service) में चयन मिला.

यह शुभम का चौथा प्रयास था जिसमें वह अपना लक्ष्य पूर कर सके और मैरिट-लिस्ट में छठे स्थान पर चयन के साथ IAS का पद सुनिश्चित किया.


Last Update Thursday 8th August 2019

इस शानदार सफलता और एक असामान्य प्रयास के लिए स्पष्ट रूप से मेरे बड़े भाई ने मुझे प्रेरित किया - वीर प्रताप सिंह (रैंक 92; सिविल सेवा परीक्षा 2018) (My elder brother stimulated apparently ordinary me to unusual effort that resulted in such a splendid success; says Veer Pratap Singh (AIR 92; CSE 2018))

On Thursday 1st August 2019  

उत्तर प्रदेश के दलपतपुर गाँव, जिला बुलंदशहर से आये 25 वर्षीय वीर प्रताप सिंह ने सिविल सेवा परीक्षा 2018 में शानदार सफलता प्राप्त करके अपने परिवार के सपनों को पूरा किया है और मेरिट-लिस्ट में 92 वीं रैंक हासिल की है.

यह वीर प्रताप की लगातार तीसरी मुख्य परीक्षा थी और अंत में सिविल सेवा परीक्षा 2018 के साथ इस सफलता की मिठास का स्वाद चखा.

उन्होंने वैकल्पिक विषय के रूप में दर्शनशास्त्र को चुना था.

 


Last Update Friday 2nd August 2019

टॉपर की प्रेरणा और उनके सुझावों से प्रिन्स धवन को मिली मदद, किया प्राप्त सिविल सेवा परीक्षा 2011 में तीसरा रैंक (Success inspires success – A word of Advice from Toppers helped Prince Dhawan to achieve 3rd Rank in CSE 2011)

On Saturday 20th July 2019  

जब यह आपके वैकल्पिक विषय की पसंद और चुनाव के बारे में होता है, तो कुछ मूल्यवान सलाह लेने के इरादे से आपके द्वारा चयनित वैकल्पिक विषय हेतु सहायता के लिए सफल उम्मीदवारों तक पहुंचने में कोई बुराई नहीं है.

ऐसा ही कुछ हुआ प्रिंस धवन (AIR 3; CSE 2011) के साथ जब अपनी तैयारी की योजना बनाते समय वैकल्पिक विषय के चुनाव के बारे में और तैयारी की रणनीति हेतु सही निर्णय लेने में वरिष्ठ, सफल उम्मीदवारों तक पहुँचे जिन्होंने प्रिंस को उचित मार्गदर्शन दिया.


Last Update Saturday 23rd May 2020

About Us

IASPASSION is all about success in Civil Services Examination. With an eye on coveted Indian Administrative Service aspiring youngsters chase their dreams and give their best to achieve success.
We are passionately working on making their journey uncomplicated and enjoyable and our mission is to dispel the myths and wrong notions that surround this big examination.
It is our continuous endeavor to bring in relevant information and inspiring stories that instill confidence and help you persevere as it is a fierce competition that sometimes requires just sticking to the GOAL.

 

The content on this site is IPR property of IASPassion.com and any reproduction of the same, in part or as a whole, will call for legal action under copyright act.

© IASPassion 2018 ---- 2020