Site Search

Search by Keyword

Browse Keyword Tags By Alphabet

A   B   C   D   E   F   G   H   I   J   K   L   M   N   O   P   Q   R   S   T   U   V   W   X   Y   Z  

You are searching for "अनुशंसित उम्मीदवार"   Total Result found: 46

हमें अपना लक्ष्य सदैव याद रखना चाहिए और किसी विफलता के लिए मानसिक रूप से तैयार रहना चाहिए - रेहाना बशीर (एआईआर 187; सीएसई 2018) (We need to remember is our Goals all the times and should be mentally prepared for failures - Rehana Bashir (AIR 187; CSE 2018))

On Monday 22nd April 2019  

जम्मू (जम्मू और कश्मीर) की डॉ. रेहाना बशीर ने SKIMS, श्रीनगर से MBBS करने के बाद सिविल सेवा परीक्षा 2018 में शानदार सफलता हासिल की और जम्मू और कश्मीर के युवाओं, खासकर लड़कियों में बड़ी सफलता के प्रति विश्वास जगाया है.

रेहाना का यह दूसरा प्रयास था. पहले प्रयास (CSE 2017) में वह प्रारंभिक परीक्षा को पास नहीं कर सकी थी.

रेहाना ने अपने विषय - मेडिकल साइंस को वैकल्पिक विषय के रूप में रखा.


Last Update Monday 22nd April 2019

अपनी स्मार्ट अध्ययन-योजना से दृढ़ता से तब तक जुड़े रहें, जब तक वांच्छित सफलता प्राप्त न हो जाये - अतिराग चपलोत (AIR 15; CSE 2018) (“An aspirant must have the perseverance to stick to smart study-plan until it is not conquered” says Atirag Chaplot (AIR 15; CSE 2018))

On Sunday 21st April 2019  

उदयपुर (राजस्थान) के सांवर गाँव के अतिराग चपलोत ने अपनी स्कूली शिक्षा फतहनगर और उदयपुर से की और स्नातक की पढ़ाई मुंबई विश्वविद्यालय से की.

एक अर्हता प्राप्त चार्टर्ड एकाउंटेंट, अतिराग कम उम्र में ही सिविल सेवा की ओर मोहित हो गए और उन्हें विश्वास था कि वह ऐसा कर सकते हैं. उन्होंने अपना लक्ष्य को पूरा करने के लिए तीन प्रयास लिए.

उन्होंने लगातार असफलता के कारण उत्पन्न व्यथा के बावजूद अपने लिए राह साफ करने की ताकत दिखाई और अपनी पिछले प्रयास में की गलतियों से सीखते हुए ऊपर उठने का  कार्य किया.

सी.ए. बैकग्राउंड से होने के कारण, अतिराग ने वैकल्पिक विषय के रूप में कॉमर्स और अकाउंटेंसी को विकल्प के रूप में चुना.


Last Update Sunday 21st April 2019

असफलताओं को मुस्कुराहट के साथ स्वीकार करने और गलतियों से सीखने से राह आसान हो गई - मयंक गुप्ता (AIR 177; CSE 2018) (“Accepting failures with a smile and learning from mistakes made it easier” says Mayank Gupta (AIR 177; CSE 2018))

On Saturday 20th April 2019  

अलवर, राजस्थान के डॉ. मयंक गुप्ता की सिविल सेवा परीक्षा में शानदार सफलता उनकी कड़ी मेहनत और धैर्य का पुरस्कार है. उन्होंने इस प्रयास में 177 वीं रैंक हासिल की.

इसके लिए हालांकि उन्हें थोड़ी लम्बा इंतजार करना पड़ा क्योंकि यह सफलता उन्हें अपने पांचवें प्रयास में प्राप्त हुई.

परीक्षा लेखन के लिए उनका माध्यम अंग्रेजी रहा परन्तु, साक्षात्कार के लिए मयंक ने हिन्दी भाषा को चुना.

उन्होंने वैकल्पिक विषय के रूप में अपना विषय चिकित्सा विज्ञान चुना था.


Last Update Saturday 20th April 2019

शीर्ष 10 में शामिल होना निसंदेह अविश्वसनीय है; यह मैंने स्वप्न में भी नहीं सोचा था - वैशाली सिंह (AIR 8; CSE 2018) (Being among top 10 is unbelievable; this is not something I even dreamt of; says Vaishali Singh (AIR 8; CSE 2018))

On Saturday 20th April 2019  

जब आप सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी कर रहे हों, तो आपके पास एक योजना होनी चाहिए; और आपको अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए वास्तव में कड़ी मेहनत करनी होगी.

नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, दिल्ली से विधि स्नातक वैशाली सिंह (AIR 8; CSE 2018) ने सिविल सेवा परीक्षा 2018 में शानदार सफलता प्राप्त की है.

वैशाली ने अपने स्वयं के विषय विधि में विश्वास दिखाया और वैकल्पिक विषय के रूप में चुना.


Last Update Saturday 20th April 2019

वैकल्पिक विषय सफलता दर - सिविल सेवा (मुख्य) परीक्षा 2015 (Success Rate of Optional Subjects in Civil Services (Main) Examination 2015)

On Sunday 3rd March 2019  

सिविल सेवा परीक्षा हेतु किसी भी उमामीदवार के लिए वैकल्पिक विषय चयन एक बड़ा निर्णय है और सभी इसके महत्व को समझते भी हैं क्योंकि वैकल्पिक विषयों में प्राप्तांकों का आपके अंतिम परिणाम में असर स्पष्ट दिखता है.

सिविल सेवा (मुख्य) परीक्षा 2013, 2014 और 2015 में वैकल्पिक विषयों के प्रदर्शन से संबंधित प्रामाणिक आंकड़ों के साथ, उम्मीदवारों को प्रत्येक वैकल्पिक विषय के प्रदर्शन और उनकी सफलता-दर के बारे में सही तस्वीर पता चल सकती है.

(साभार-संघ लोक सेवा आयोग की 67वीं वार्षिक रिर्पोट)


Last Update Monday 4th March 2019

एक वैकल्पिक कैरियर हाथ में न होता तो न तो मैं संघर्ष कर पाता और न ही सफल; आशीष कुमार, सिविल सेवा परीक्षा 2017 में हिंदी माध्यम से चयनित (Without alternative career in hand, it would have been impossible to continue struggle and even the resultant success; says Asheesh Kumar Selected in Civil Services Exam 2017 with Hindi Medium)

On Friday 14th December 2018  

कुछ लोग ऐसे होते हैं जो अपने मूड के हिसाब से चलते हैं और सही अवसर के इंतजार में समय निकालते रहते हैं और कुछ लोग ऐसे होते हैं जो कर्म से अपने भाग्य की रेखाओं को बदलने में विश्वास रखते है.

जहाँ असफलता तोड़ कर रख देती है वहीं आशीष कुमार ने लगातार नकारात्मक परिणाम के बावजूद हार नहीं मानी और अपने नौवें प्रयास में आखिर सफलता पा ही ली.

एक साधारण पृष्ठभूमि से आये आशीष ने सिविल सेवा परीक्षा 2009 से की शुरूआत को अंततः 2017 की परीक्षा में धैर्य और दृण-संकल्प दिखा लक्ष्य प्राप्ति के साथ अपना स्वप्न साकार किया.

सिविल सेवा परीक्षा में आशीष ने वैकल्पिक विषय के रूप में हिंदी भाषा का साहित्य चुना.


Last Update Friday 14th December 2018

IAS 2019 - कोई भी उम्मीदवार कुछ भी प्राप्त कर सकता है (IAS 2019 - Anybody can Achieve Anything)

On Monday 3rd December 2018  

जी हाँ बिलकुल. हर वर्ष आप में से कई उम्मीदवार इस वाक्य को सच साबित करते हैं और बड़ी सफलता प्राप्त करके लक्ष्यों को पूरा करते हैं.

यह एक नियमित घटनाक्रम है और सिविल सेवा परीक्षा 2017 के परिणाम में शीर्षस्थ स्थान डूरीशेट्टी अनुदीप (रैंक 1) को मिला. वहीं हिन्दी माध्यम से सर्वोच्च स्थान अनिरुद्ध कुमार (रैंक 146) को मिला .

अगले कुछ महीनों में सिविल सेवा परीक्षा 2018 के अंतिम परिणाम में हमें कई उम्मीदवारों के लिए नई शुरुआत की झलक दिखाई देगी, जिसमें उनकी कड़ी मेहनत और ईमानदार प्रयासों के लिए पुरस्कृत किया जाएगा.


Last Update Sunday 9th December 2018

मिलें एक परिवार से जहां चारों भाई-बहनों ने 'सिविल सेवाओं' में स्थान बनाया (Meet a family where all Four - Two Brothers and Two Sisters have made it to ‘Civil Services’)

On Sunday 2nd December 2018  

सिविल सेवा परीक्षा 2013 की रिजर्व सूची में बड़े भाई योगेश मिश्रा के चयन से शुरू हुआ सिलसिला; फिर माधवी मिश्रा (रैंक 62; सिविल सेवा परीक्षा 2014) जिन्हें मैंने वर्ष 2015 में साक्षात्कार किया.

इस क्रम में सिविल सेवा परीक्षा 2015 में उनके छोटे भाई लोकेश (रैंक 44) और सबसे बड़ी बहन क्षमा (रैंक 172) ने सफलता प्राप्त कर एक उत्कृष्ट उदाहरण प्रस्तुत किया है.


Last Update Thursday 4th April 2019

परीक्षा की प्रकृति को समझें और सकारात्मक सोच के साथ सिविल सेवाओं में अपना स्थान बनायें – सूरज सिंह IPS (Understand the exam-plan and with positive thinking make a place for yourself in ‘Civil Services’)

On Friday 19th October 2018  

सिविल सेवा परीक्षा में हिंदी माध्यम के अभ्यर्थियों के प्रदर्शन के बारे में और हिंदी माध्यम के अभ्यर्थियों में सफलता की आशाएँ जगाने में अपना योगदान निरन्तर देने का प्रयास जारी रखे हूँ

यह लेखों की श्रृंखला इसी कड़ी में शुरूआत की हिंदी माध्यम से सर्वोच्च स्थान प्राप्त चिरपरिचित निशांत जैन (रैंक 13, सिविल सेवा परीक्षा 2014) से.

इस श्रृंखला में आपके मार्गदर्शन के लिए प्रस्तुत है हिंदी माध्यम से चयनित भारतीय पुलिस सेवा में कार्यरत्त सूरज सिंह (रैंक 189, सिविल सेवा परीक्षा 2014 - हिंदी माध्यम से चयनित द्वितीय रैंक) के साथ अंतरग बातचीत का सारांश.

अपने पिछले प्रयास (सिविल सेवा परीक्षा 2013) में भी सूरज सफल रहे और उनका भारतीय राजस्व सेवा में चयन हुआ.


Last Update Sunday 4th November 2018

सिविल सेवा परीक्षा में सफलता के लिए आपको चाहिये तैयारी की एक समुचित रणनीति और बिना विचलित हुए सफलता की आशा के साथ समग्र प्रयास - रतन दीप गुप्ता (सिविल सेवा परीक्षा 2017 में हिन्दी माध्यम से सफल) (For success in Civil Services Examination you need a well-defined plan, focused hard work with hope for success – Ratan Deep Gupta (Success in Civil Services Examination with Hindi Medium))

On Monday 8th October 2018  

अपने पाँचवे प्रयास में एक लम्बी प्रतिक्षा के बाद अपना लक्ष्य पाने वाले रतन दीप गुप्ता ने सिविल सेवा परीक्षा 2017 में सफलता प्राप्त की है.

वर्ष 2009 में स्नातकोत्तर के बाद कैरियर की खोज में पहला चयन वर्ष 2010 में भारतीय स्टेट बैंक में असिस्टेंट और साथ ही कर्मचारी चयन आयोग के माध्यम से एकाउन्टेंट के पद पर हुआ और यहीं कार्यरत्त रहे.

अपने सभी प्रयासों में रतन दीप ने वैकल्पिक विषय के रूप में हिन्दी भाषा के साहित्य को चुना.


Last Update Monday 8th October 2018

निशांत जैन (IAS) द्वारा सिविल सेवा परीक्षा में सफलता हेतु एक प्रभावपूर्ण मार्गदर्शन (An effective guidance for success in the Civil Services Examination by Nishant Jain IAS)

On Friday 17th August 2018  

सिविल सेवा परीक्षा में हिंदी माध्यम के अभ्यर्थियों के प्रदर्शन के बारे में चिन्ता स्वाभाविक है और किस प्रकार से हिंदी माध्यम के अभ्यर्थियों में नया जोश भरा जाए इस पर मैंने निरन्तर प्रयास जारी रखे हैं.

यह लेखों की श्रृंखला इसी कड़ी में नया प्रयास है जिसमें मैंने हाल के वर्षों में हिंदी माध्यम से चयनित उम्मीदवारों से इस विषय पर चर्चा की और उनके अनुभवों और रणनीतियों को आपसे सांझा करने का प्रयास किया है जिससे आपका मार्गदर्शन हो सके और आप उच्च सफलता प्राप्त करने में सक्षम हो सके.

 


Last Update Sunday 16th September 2018

सिविल सेवा परीक्षा में सफलता के लिए अपने आप पर, अपनी मेहनत पर भरोसा रख सही निर्देशन में कठोर अभ्यास करें और तैयारी में विविधता रखें; चेतन कुमार मीना (रैंक 594, सिविल सेवा परीक्षा 2017) हिन्दी माध्यम से सफल (For Success in Civil Services Exam, believe in self, trust in your hard work and practice done under guidance with diversity in preparation helps; says Chetan Kumar Meena (AIR 594, CSE 2017) Success with Hindi Medium)

On Wednesday 15th August 2018  

22 वर्ष के चेतन कुमार मीना ने महाराजा कॉलेज, जयपुर (राजस्थान विश्वविद्यालय) से विज्ञान स्नातक परीक्षा पास कर सिविल सोवा परीक्षा 2017 में प्रथम प्रयास लिया और एक शानदार सफलता प्राप्त कर अपने स्वप्न साकार किये हैं.

इससे पहले भी एक वैकल्पिक कैरियर सुनिश्चित करने हेतु एस.एस.सी परीक्षा पास कर चेतन इंकम टैक्स इंस्पेक्टर पद पर चयन पा चुके हैं.

चेतन ने वैकल्पिक विषय के रूप में हिन्दी भाषा का साहित्य चुना था.


Last Update Sunday 16th September 2018

About Us

IASPASSION is all about success in Civil Services Examination. With an eye on coveted Indian Administrative Service aspiring youngsters chase their dreams and give their best to achieve success.
We are passionately working on making their journey uncomplicated and enjoyable and our mission is to dispel the myths and wrong notions that surround this big examination.
It is our continuous endeavor to bring in relevant information and inspiring stories that instill confidence and help you persevere as it is a fierce competition that sometimes requires just sticking to the GOAL.

 

The content on this site is IPR property of IASPassion.com and any reproduction of the same, in part or as a whole, will call for legal action under copyright act.

© IASPassion 20018 ---- 2019